वैक्सी्नेशन के बाद भी हो रहा है कोरोना! जानिए कारण, रहिये सावधान

पुरे देश में जब कोरोना वैक्‍सीनेशन कार्यक्रम (Corona Vaccination Program) चल रहा है. वहीँ हर किसी को यह लगा कि जल्‍द ही कोरोना (Corona) का  पूरी तरह से अंत हो जाएगा. हर कोई यही सोच रहा है कि कोरोना से बचने के लिए जल्द से जल्द कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine) लगवा लें. लेकिन अब कई मामलों में ऐसा देखने को आ रहा है कि वैक्‍सीनेशन के बाद भी लोग कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे हैं. इस तरह के मामले सामने आने के बाद लोगों में चिंता बढ़ने लगी है.

कोरोना वैक्सीरनेशन के बाद भी हो रहा है कोरोना! रहिये सावधान
Dr. Punit – ImageSource/BBCNews

वैक्सी्नेशन के बाद पॉजिटिव होने वाले

1.  भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज में पैथोलॉजी स्पेशलिस्ट डॉक्टर पुनीत उम्र 53 साल, जिन्हें किसी भी तरह की कोई दूसरी बीमारी भी नहीं है. 16 जनवरी को उन्हें कोरोना की पहली वैक्सीन लगी और 38 दिन बाद 24 फ़रवरी 2021 को वैक्सीन की दूसरी डोज़ लगी. 31 मार्च 2021 को उन्हें हल्का बुखार आया. उन्होंने जब अपना रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाया तो उनका रिपोर्ट कोविड-19 पॉज़िटिव आया.

2. लखनऊ यूनिवर्सिटी के King George Medical University (KGMU) के कुलपति Dr. V. K. Puri समेत 40 डॉक्टर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पायी गयी हैं. ये सभी डॉक्टर कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) की अपनी दोनों डोज़ लगाव चुके थे. इसके बावजूद ये कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

3. महाराष्ट्र के औरंगाबाद नगर निगम के कमिश्नर आस्तिक कुमार पांडे को पिछले महीने ही कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज़ लगाई गई थी वो भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इसके आलावा देश के कई जगहों से इस तरह के मामले सामने आने लगे हैं.

पढोशी देश

4. पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री, इमरान खान (Imran Khan) को पिछले महीने में चीनी कंपनी द्वारा निर्मित वैक्सीन लगाई गई थी. वैक्सीनेशन को दो दिन बाद ही वे कोरोना पॉजिटिव पाए गए.

क्या है स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना

अब केंद्र सरकार वैक्सीन लगने बाद भी संक्रमित हो रहे लोगों का डेटा एकत्त्रित करने जा रही है. पुरे देश के कई जगहों से इस तरह की ख़बरें सामने आ रही हैं. जहाँ वैक्सीन की दोनों डोज़ लेने के बाद भी लोग कोरोना पॉजिटिव आ रहा हैं

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इस डेटा को इक्कट्ठा करने के लिए कोरोना वायरस सैंपल फॉर्म में वैक्सीन से जुड़े कुछ कॉलम भी जोड़े गए हैं जिसमें लोगों से वैक्सीन लगने से जुडी कुछ जानकारियां भी मांगी गई है. कि उन्होंने वैक्सीन लगवाई है या नहीं, अगर लगवाई थी तो किस कंपनी की, पहली डोज़, दूसरी डोज़ कब ली थी, फिलहाल पुरे देश में दो वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन की डोज़ लोगों को लगाई जा रही है. इससे पहले सरकार के पास डेटा इकट्ठा करने का और कोई दूसरा तरीका नहीं था.

क्या है इसके कारण? वैज्ञानिकों ने साफ किया

वैक्‍सीनेशन के बाद भी लोग कोरोना पॉजिटिव होने की खबरों को देखते हुए वैज्ञानिकों ने साफ किया है कि लोगो को टीकाकरण के बाद भी काफी सावधानी बरतने की आवश्यकता है. उन्‍होंने बताया कि वैक्‍सीन को शरीर में पुरी तरह से असर करने के लिए वक्‍त लगता है. इस लिए लोगो को वैक्‍सीनेशन के बाद भी सावधानी बरतना आवश्यक है. किसी वैक्सीन निर्माता ने अभी तक 100 फ़ीसद एफ़िकेसी का डेटा नहीं दिया है. भारत में बनाये गए वैक्सीन की एफीकेसी 80 फ़ीसद तक बताई गई है. इसका मतलव वैक्सीन लगाने के बाद भी 20 फ़ीसद संक्रमण का खतरा रहता है.

इससे कैसे बचा जाये?

लापरवाही न बरतें, लोगों को वैक्सीनेशन के बाद भी सावधानी बरतना ज़रूरी है, मास्क का इस्तेमाल करते रहें, सोशल डिस्टेंस बना कर रखे, हाथों को बार बार धोएं, संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें.

यह भी पढ़ें:

Leave a Comment

%d bloggers like this: