रायगढ़: महासफाई अभियान के नाम पर निगम ने कई दिनों तक रखा घरों के आगे नाली का ढेर, मोहल्लेवाशी परेशान

रायगढ़: महासफाई अभियान के नाम पर निगम ने कई दिनों तक रखा घरों के आगे नाली का ढेर, मोहल्लेवाशी परेशान
घरों के सामने रखा नाली से निकाला हुआ कचरा

बिते सोमवार को वार्ड नंबर 2 धांगरडीपा में महासफाई अभियान की शुरुआत की गई थी। कलेक्टर भीम सिंह सहित प्रभारी आयुक्त अभिषेक गुप्ता और निगम कर्मियों की टीम मौके पर मौजूद रही। वहीं कलेक्टर ने लोगों को बाहर कचरा ना फेंकने की समझाइश भी दी। कहने को तो हर दिन 700 से अधिक कर्मचारी शहर के हर गली-मोहल्ले में सफाई अभियान चलाने में लगे हुए हैं। नगर निगम की कुछ टीम शहर मे जागरूकता फैलाने में लगी है तो कुछ कचरे का ढेर लगने वाले प्रमुख स्थानों को साफ सफाई कर हटा रहे हैं। स्वच्छता रैंकिंग में शहर को साफ रखने के अलावा राजस्व वसूली के भी आंकड़ों को भी देखा जाता है। मगर इस मामले में निगम पिछड़ा हुआ है। जिसका कारण जल्द ही सामने आ गया।

रायगढ़: महासफाई अभियान के नाम पर निगम ने कई दिनों तक रखा घरों के आगे नाली का ढेर, मोहल्लेवाशी परेशान
घरों के सामने रखा हुआ नाली का कचरा

बिते सोमवार को आलाअफसरों को आते देख निगम कर्मचारियों ने अचानक से साफ सफाई शुरू कर दी। तथा घरों के सामने बने नालियों से गंदगी (कचरे) निकाल कर रख दिये। जो पिछले 7 दिनों से घरों के सामने ही रखा हुआ है। जिससे मोहल्लेवाशी हो रहें हैं परेशान।

रायगढ़: महासफाई अभियान के नाम पर निगम ने कई दिनों तक रखा घरों के आगे नाली का ढेर, मोहल्लेवाशी परेशान
नाली से निकले हुए कचरों पर खेलते बच्चें

बिते सोमवार को वार्ड नंबर 2 धांगरडीपा में कलेक्टर भीम सिंह सहित प्रभारी आयुक्त अभिषेक गुप्ता और निगम कर्मियों की टीम मौके पर मौजूद रही तथा लोगों को सफाई की समझाई भी दी। लेकिन जैसे ही अधिकारियों के जाते ही निगम कर्मचारी फिर से सुस्त पढ़ गए और घरों के सामने नाली का कचरा छोड़ चले गए। जो पिछले 7 दिनों से घरों के सामने ही पढ़ा हुआ है। मजबूरन बच्चों को वहीं खेलना पड़ता है। ऐसे मे कैसे सुधरेगी शहर की स्वच्छता रैंकिंग।

यह भी पढ़ें :

पार्षद भी लापरवाह

इसकी शिकायत महल्लेवासी पार्षद अशोक यादव के पास भी करने गए। लेकिन हमेशा की तरह उन्हें यहीं जवाब मिला कि सफाई वाले आएंगे तो भेजवा दूंगा या फिर पार्षद घर पर नहीं है। इससे यह जानकारी मिलती है कि अधिकारियों के जाने के बाद अभी तक कोई निगम कर्मचारी ( सफाई वाले ) मोहल्ले में नहीं आये हैं। पार्षद द्वारा पूरे मोहल्ले में कभी मुयायना नहीं किया जाता है। जिसके कारण मोहल्ले में कहीं स्ट्रीट लाइट बन्द है तो कहीं सड़कों पे बह रहा है नाली का पानी।

Leave a Comment

%d bloggers like this: